Free online Astrology & Horoscopes

दीवाली पूजा का मुहूर्त —–
दीवाली के दिन लक्ष्मी का पूजा का विशेष महत्व माना गया है, इसलिए यदि इस दिन शुभ मुहूर्त में पूजा की जाए तब लक्ष्मी व्यक्ति के पास ही निवास करती है. “ब्रह्मपुराण” के अनुसार आधी रात तक रहने वाली अमावस्या तिथि ही महालक्ष्मी पूजन के लिए श्रेष्ठ होती है. यदि अमावस्या आधी रात तक नहीं होती है तब प्रदोष व्यापिनी तिथि लेनी चाहिए. लक्ष्मी पूजा व दीप दानादि के लिए प्रदोषकाल ही विशेष शुभ माने गए हैं.
======================================
2014 के दीवाली पूजन के स्थिर लग्न मुहूर्त—-
कुंभ लग्न की अवधि—मध्याह्न 02.40 से अपराह्न 15.56 तक
वृषभ लग्न की अवधि—-शाम को अपराह्न 19.15 से लेकर रात्रि 21.10 तक
सिंह लग्न की अवधि——रात्रि 01.18 से लेकर 03.38 तक
वृश्चिक लग्न–प्रातः 08 :40 से लेकर 10 :50 तक
================================================
चोघडिया मुहूर्त—-
अमृत–– शाम को 06 :00 PM से 19:30 तक
शुभ – दोपहर 04:30 PM से 06:00 PM तक
लाभ— रात्रि 11 बजकर 40 मिनट से से मध्यरात्रि 01:20 AM तक
================================================